E.27 गीता किसने सुनाई श्रीकृष्ण या शिव ?

Geeta E•27 श्रीकृष्ण जो व्यक्त्त स्वरूप अर्थात् साकार स्वरूप था " उस व्यक्त्त स्वरूप में , मैं अव्यक्त्त रूप में प्रवेश होता हूँ ! इसलिए गीता में कहीं भी श्रीकृष्णवाच् नहीं आता है , " भगवानुवाच " आता है

227

गीता ज्ञान का आध्यात्मिक रहस्य (तीसरा और चौथा अध्याय)

“स्वधर्म, सुख का आधार” 

The Great Geeta Episode No• 027

अर्जुन एक महत्त्वपूर्ण प्रशन जिसका उत्तर भगवान इस प्रकार देते हैं ! अर्जुन ने प्रशन पूछा कि 

सबसे पहले आपने ये ज्ञान किसको दिया था ?


तब भगवान कहते हैं कि

उत्तर :- अविनाशी योग को कल्प के आदि में मैने सूर्य से कहा था ! सूर्य से मनु को यही गीता प्राप्त हुई, मनु ने उसे स्मृति में संजोया, मनु से इच्छावाक को मिली, जिसे राजत्र्षियों ने जाना ! किन्तु इस महत्त्वपूर्ण काल में ये ज्ञान लुप्त हो गया !

भावार्थ यह है, सूर्य को कहना माना कि आरम्भ में वर्तमान मनुष्य जो संस्कार रहित है ! सुरा ने सूर्य से मनु को दिया , इसका अर्थ है आत्मा में ही मन है ! तो मन को प्राप्त होता है ! मन से इच्छा में अर्थात् इच्छावाक को ! इच्छा जब तीव्र होकर संस्कारों में ढलकर , यह योग तब आचरण तक पहुँचता है !

उस अवस्था में रीद्धि-सिद्धियों का संचार होता है ! इस संसार में , आज लोगों को मेहनत नहीं करना है तुरन्त भागते हैं ! कुछ किया नहीं और प्राप्ति हो गयी या किया किसी और ने और प्राप्ति हो गयी !

ऐसी अवस्था जब आती है जिसके प्रभाव के कारण , यह ज्ञान लुप्त हो जाता है ! मेहनत करना कोई नहीं चाहता ! ये है रहस्य कि सबसे पहले कैसे संस्कार रहित मनुष्य आत्माओं को दिया गया !

Arjun & shiva
Arjun & shiva

अर्जुन फिर प्रशन पूछता है कि

क्या ये उत्तम रहस्हपूर्ण योग का वर्णन करने आप, सब की तरह पैदा होते हैं, वा जन्म लेते हैं ?

उत्तर :- तब भगवान ने कहा, नहीं ! स्वरूप की प्राप्ति शरीर प्राप्ति से भिन्न है ! मेरा जन्म इन आँखों से देखा नहीं जा सकता है ! में अजन्मा अव्यक्त्त और शाश्वत् हूँ ! 
अव्यक्त्त ( जिसको व्यक्त्त शरीर नहीं है ) इसलिए तो रथी बनकर के अर्जुन के रथ में आया ! में विनाश रहित , पुर्नजन्म रहित , प्रकृति को अधीन कर , योगमाया से प्रगट होता हूँ ! 
स्वरूप का जन्म पिण्ड रूप में नहीं होता है ! मैने किसी माता के गर्भ से जन्म नहीं लिया ! योग साधना द्वारा अपनी त्रिगुणमयी प्रकृति को ' स्व वश ' करके प्रगट होता हूँ ! इस प्रकार परमात्मा अपने वास्तविक स्वरूप को बताते हैं !

इससे स्पष्ट हो जाता है कि अर्जुन के रथ में विराजमान

” श्रीकृष्ण जो व्यक्त्त स्वरूप अर्थात् साकार स्वरूप था ” उस व्यक्त्त स्वरूप में , मैं अव्यक्त्त रूप में प्रवेश होता हूँ ! इसलिए गीता में कहीं भी श्रीकृष्णवाच् नहीं आता है , ” भगवानुवाच ” आता है !

क्योंकि श्रीकृष्ण के माध्यम से भी बोलने वाला कौन था ? श्रीकृष्ण के माध्यम से बोलने वाला परमात्मा था , जो अजन्मा है !

इसलिए भगवान ने अपना वास्तविक परिचय देते हुए यही स्पष्ट किया कि

मैं अजन्मा, अव्यक्त्त मैं इन आँखों से नहीं देखा जा सकता हूँ ! तुम जिसको देख रहे हो वो श्रीकृष्ण है ! लेकिन तुम मुझे इन आँखों से नहीं देख सकते हो ! कितना स्पष्ट है कि श्रीकृष्ण के माध्यम से बोलने वाला कोई और है !

मैं अव्यक्त्त , शाश्वत् विनाश रहित , पुनर्जन्म रहित , प्रकृति को अधीन करके योगमाया से प्रगट होता हूँ अर्थात् श्रीकृष्ण के तन में मैं प्रगट हो कर बोलने वाला परमात्मा था ! 

भगवानुवाच का अर्थ

इसलिए कहा भगवानुवाच , जिसकी पूजा हम भारत भर में करते हैं , ” ज्योतिर्लिंगम के रूप में ” ज्योतिर्लिंगम माना जो ज्योति का स्वरूप है ! जो ज्योति का प्रतीक है , वो प्रकाशमान अव्यक्त्त स्वरूप है !

जिसकी पूजा हमने ज्योतिर्लिंगम के रूप में की है !

ज्योतिर्लिंगम

आज भी पूरे भारत भर में बारह ज्योतिर्लिंगम का विशेष महत्व है ! जो महान तीर्थ स्थान बन गए हैं !

जिसको कहते हैं देवों का भी देव ” महादेव ” अर्थात् जिसकी पूजा स्वयं देवाताओं ने भी की है इसलिए कुरूक्षेत्र के मैदान में आज भी स्थाणेश्वर का मन्दिर है !

जहाँ दिखाते हैं कि महाभारत युद्ध के पहले श्रीकृष्ण ने भी स्वयं शिव की पूजा की और पाण्डवों से भी कराई ! उसके बाद हर-हर महादेव अर्थात् युद्ध आरम्भ हो गया !

तो श्रीकृष्ण ने स्वयं शिव की पूजा क्यों की ? अगर श्रीकृष्ण भगवान थे तो उन्हें शिव की पूजा नहीं करना था !

इसी तरह रामेश्वरम् में चले जाओ जहाँ दिखाते हैं कि रावण से युद्ध करने से पहले स्वयं श्रीराम ने भी शिव की पूजा की !

God is One

श्रीराम का भी जो ईश्वर है और उसकी पूजा करके उसके बाद हर-हर महादेव अर्थात् बुराइयों के ऊपर सम्पूर्ण विजय प्राप्त करना ! हर-हर महादेव अर्थात् हरना समाप्त करना वा मिटाना ! महादेव की शक्त्ति अर्थात् जो देवों का भी देव महादेव !

जिन देवियों की आज हम पूजा करते हैं , अम्बा , दुर्गा , ये सब देवियां कौन हैं ?

कहा जाता है कि संसार में जब असुर बढ़ गए थे तो शिव ने अपनी शक्त्तियों को उत्पन्न किया था !

असुर संहारिणी शिव शक्त्तियों के रूप में आज भी उनका गायन करते हैं !

जो देवों का भी देव , देवियों का भी देव वो है महादेव ! जिसकी मान्यता संसार के सभी आत्माओं ने स्वीकार की है !

मुसलमान धर्म में जाओ तो वे लोग मूर्ति पूजा

मुसलमान धर्म में जाओ तो वे लोग मूर्ति पूजा नहीं मानते हैं ! परन्तु जब वे मक्का हज पर जाते हैं ! तो वहाँ काबा का पवित्र पत्थर रखा है जो निराकार है !

इसके पीछे एक कहानी है ! जब मुसलमान धर्म में परमात्मा के विषय को लेकर मतभेद हो गया तो कहा जाता है कि मक्का में पहले एक लाख छियासी हज़ार देवी-देवाताओं की मूर्तियां थीं !

लेकिन किसकी मूर्ति को मक्का में स्थापित किया जाए , इसको लेकर के लोगों में विवाद हो गया ! लोग आपस में झगड़ा करने लगे और खून-खराबा होने लगा !

उस वक्त्त एक आकाशवाणी हुई कि आप लड़ाई-झगड़ा मत करो और मुझे इस स्वरूप में याद करो !

ऊपर से वह पवित्र पत्थर गिरा था जिसकी स्थापना मक्का में की गयी और उसी वक्त्त सारी मूर्तियों को नष्ट कर दिया गया ! तब से लेकर आज तक इस पवित्र पत्थर की इतनी मान्यता है !

इस पत्थर का नाम है ‘संग-ए-असवद’ !

मुसलमान लोग मानते हैं कि जीवन में एक बार हज यात्रा पर जाकर , इस पवित्र पत्थर का दर्शन अवश्य करना चाहिए ! जिस लाईन के बिना उनका हज पूरा नहीं होता है !

वह लाईन है- ” हे परवर दिगार नूरे इलाही मेरा हज कबूल हो ” तब उनका हज कबूल होता है !

जिसका अर्थ है- परवर दिगार अर्थात् परमेशवर नूरे इलाही अर्थात् जो नूर का रूप है जिसको हमने ज्योतिर्लिंगम कहा , उन्होंने उसे नूर कहा , बात तो एक ही है ! ज्योति माना तेज और नूर माना भी तेज , तो बात तो एक ही हो गयी !
इसके आगे के भाग को एपिसोड नंबर 28 में पढ़े: E.27 गीता किसने सुनाई श्रीकृष्ण या शिव ?
4 1 vote
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments