यात्रियों से भरी बस चली जा रहा थी, जब अचानक मौसम बदला और भारी बारिश चालू हो गयी और बिजली भी चारों तरफ चमकने लगी सभी देख रहे थे कि बिजली कभी भी बस को चपेट में ले सकती है । रोशनी से बचने के 2 या 3 कठिन प्रयास के बाद, चालक ने पेड़ से पचास फुट की दूरी पर बस बंद कर कहा -
  • “हमारे पास बस में कोई है जिसकी मृत्यु आज निश्चित है।” उस व्यक्ति की वजह से बाकी सब लोग भी मारे जाएंगे। अब ध्यान से सुनिये जो मैं कह रहा हूं ..मैं चाहता हूं कि प्रत्येक व्यक्ति बस से उतर एक एक कर बाहर जाकर पेड़ के तने को स्पर्श करे और वापस आ जाए।

  • “जिसकी मौत निश्चित है वह बिजली से पकड़ा जाएगा और मर जाएगा और बाकी सभी को बचा लिया जाएगा “।
  • उसने पहले व्यक्ति को जाने और पेड़ को छूने और वापस आने के लिये कहा वह अनिच्छा से बस से उतर गया और पेड़ को छुआ।
  • उसका दिल प्रसन्न हो गया जब कुछ भी नहीं हुआ और वह अभी भी जीवित था। यही क्रम बाकी यात्रियों के लिए जारी रहा और उन सभी को राहत मिली जब वे पेड़ को छु कर लौटे और कुछ भी नहीं हुआ।
  • लेकिन जब आखिरी यात्री की बारी आई, तो सभी उसे आँखों से घूरने लगे। वह यात्री बहुत डर गया और अनिच्छुक था क्योंकि वही केवल अकेला बचा था। सभी ने उसे नीचे उतरने और जाने और पेड़ को छूने के लिए मजबूर किया।
  • मृत्यु के 100% भय के साथ, अंतिम यात्री पेड़ के पास गया और उसे छुआ। उसी समय वहाँ गड़गड़ाहट की एक बड़ी आवाज़ गूँजी और बिजली ने बस को चपेट में ले लिया – हां, बिजली के चपेट में आने से बस के अंदर सभी मारे गये। इस घटना से यह स्पष्ट हो गया (मानना पडेगा) कि पूरी बस इस आखिरी यात्री की उपस्थिति के कारण सुरक्षित थी।
  • कई बार, हम अपनी वर्तमान उपलब्धियों के लिए स्वयं श्रेय लेने की कोशिश करते हैं, लेकिन यह भूल जाते हैं कि यह हमारे साथ जूडे एक व्यक्ति के कारण है।
  • शायद उस व्यक्ति की वजह से हम अपनी वर्तमान खुशी, सम्मान, प्रेम, नाम, प्रसिद्धि, वित्तीय सहायता, शक्ति, स्थिति और क्या नहीं आनंद ले रहे हैं अपने चारों ओर देखिए – शायद आपके माता-पिता, आपके पति या पत्नी, आपके बच्चे, आपके भाई-बहन, आपके मित्र आदि के रूप में आपके आस-पास कोई है, जो आपको नुकसान से बचा रहे हैं ..!
  • हाँ ऐसा भी हो सकता है कि आपके आस पास के लोग ही आपको नुकसान पहुंचा रहे है तो मान लीजिये कि पूर्व जन्म के कर्मो के खाते है जो इस जन्म में पुरे हो रहे है तो उन्हें भी धन्यवाद दें क्योकि जितना जल्दी उनके खाते पुरे होंगे तो उनसे मुक्ति मिलेगी और जीवन में स्कारात्मता बड़ेगी |
इसके बारे में सोचिये .. और उस आत्मा को धन्यवाद दें..।

FAQS

क्या इस जन्म के कर्म के खाते इसी जन्म में पुरे होते है ?

नहीं ! यह स्रष्टि एक जीवन रंगमंच है, एक ड्रामा जो बना बनाया है इसलिए कर्म के खाते बनते और ख़त्म होते रहते है तभी तो अगला जन्म होगा और ये ड्रामा चलता रहेगा

0 0 votes
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments