E.34 आत्मा का स्थान और मन की तरंगे

53

गीता ज्ञान का आध्यात्मिक रहस्य (पाँचवां और छठाा अध्याय )

“परमात्म-अवतरण एवं कर्मयोग”

The Great Geeta Episode No• 034

आत्मा का स्थान

भगवान अर्जुन को ध्यान की प्रक्रिया बताते हैं कि हे अर्जुन !

बाहर के विषयों , दृश्यों का चिंतन नहीं करो !

अपने अंतर्चक्षु को भृक्रुटी के बीच स्थित करो !

क्योंकि यही आत्मा का अनादि स्थान है !

मेडिकल साइंस में इस बात का उल्लेख है कि हाइपोथैलेमस और पिटयूटरी ग्लैंड के बीच में आत्मा का निवास है , जो एकदम भृक्रुटी के मध्य में स्थित है !

In the evening, the SCN helps signal the body’s natural production of melatonin that tells you when it’s time for sleep.
In the evening, the SCN helps signal the body’s natural production of melatonin that tells you when it’s time for sleep.

इसलिए मनुष्य मन्दिर में जाता है , तो आत्मस्वरूप का भाव प्रगट करने के लिए वो तिलक लगाता है !

भारत में प्रथा है कि मन्दिर में जब जाते हैं तो चमड़े की चीज़ को बाहर उतारते हैं , फिर अन्दर जाकर के तिलक लगाते हैं ! यहाँ ही क्यों लगाया ?

क्योंकि वहीं आत्मा का निवास स्थान है ! उसके बाद भगवान की मूर्ति के आगे हाथ जोड़कर के नमन करते हैं !

ये प्रथा चलती आई है ! परन्तु उसके पीछे का भाव कभी किसी ने नहीं समझा की चमड़ें की ही चीज़ को बाहर क्यों उतारा ! वो चमड़ा तो उतार दिया लेकिन वास्तव जो देह अभिमान रूपी चमड़ा को बाहर उतारने की बात है ! फिर अन्दर आकर के तिलक लगाया माना स्वयं को देह नहीं आत्मा समझा !

मैं एक शुद्ध पवित्र आत्मा हूँ इस भाव को विकसित करो ! फिर भगवान की मूर्ति के आगे जाकर के हे प्रभु !

मैं फलाना आपको नमन नहीं कर रहा हूँ , लेकिन मैं आत्मा आपकी सन्तान आपको अपनी भावनायें अर्पित कर रहा हूँ !

कितना सुन्दर भाव है ये ! लेकिन क्या कभी हम इस भाव के साथ में गए ? नहीं , तो आज के बाद हमें इस भाव को विकसित करना चाहिए !

भगवान ने इसलिए इस भाव को विकसित करने के लिए अर्जुन को कहा कि बाहर के दृश्यों और विषयों का चिंतन नहीं करो !

जब भी मेडिटेशन में बैठो , ध्यान में बैठो , परमात्मा के सम्मुख बैठो तो उस समय बाहर के विषयों और दृश्यों का चिंतन नहीं करो !

लेकिन अपने अंतर्चक्षु को फालना व्यक्त्ति , फालना कारोबार , फालना काम रह गया , ये सोचने के बजाय जब वहाँ पर बैठ हो तो सब चिंतनों को बंद करके स्वयं के अंतर्चक्षु को भृक्रुटी के बीच में स्थित करो अर्थात् स्वयं को आत्मा निश्चय करो , मन को शान्त करो और परमात्मा के ध्यान में बुद्धि को एकाग्र करो तथा सम्पूर्ण प्राणियों के प्रति कल्याण की कामना को प्रवाहित कर , सांसारिक दुःखों से छुटकारा दिलाकर परमशन्ति को प्राप्त कर लो !
SOul and Body truegyantree
SOul and Body truegyantree

ये ध्यान की सही विधि है ! हम जितनी अच्छी भावनाओं को प्रवाहित करेंगे , संसार में उतनी ही ये भावनायें वापिस आयेंगी ! जैसे ही आप भावनाओं को फैलाते हैं , वहीं भावनायें पुनः आपके पास लौट कर आयेंगी , क्योंकि ये अनादि कर्मों का सिद्धांत है !

इसका एक बहुत सुन्दर उदाहरण को अगले अध्याय में वर्णन करेंगे !

जैसे भावनाओं को या तरगों को आप अन्दर छोड़ते हैं , तो वो तरंग फिर वाइब्रेट होकर आपके पास आ जाती है !

ऐसे अगर हम निगेटिव तरगों को छोड़गे तो वही तरंगे हमारे पास वापिस आयेंगी , जो हमारी मानसिक शान्ति को भगं कर देंगी !

इसलिए जितना हो सके उतने शुद्ध तरंगों को फैलाओ ! एक बहुत ही सुन्दर कहानी है कि किस तरह वो तरंगें हमारे पास वापिस आती हैं !

मन की तरंगे- एक कहानी

एक राजा था !

उसका एक मित्र था , जो लकड़ी का व्यापारी था !

दोनों में बहुत अच्छी दोस्ती थी !

एक दिन वो लकड़ी का व्यापारी अपने गोदाम में गया !

सारा स्टाँक देखते-देखते चंदन की लकड़ी के पास आया और देखा इतना सारा चंदन की लकड़ी पड़ी हैं !

उसका बिज़नेस माइंड चलने लगा कि कितने पैसे मेरे इसमें रूके हुए हैं !

अब ये पैसे निकलेंगे कैसे ? इतनी लकड़ी कौन खरीदेगा ? बिना मतलब का इतना चंदन की लकड़ी को क्यों खरीद लिया ? ऐसे विचार चलने लगे !

फिर उसके मन में विचार आया कि अगर कोई मरता है तो … क्योंकि मनुष्य की स्वाभाविक प्रवृत्ति ये है कि मन में पहले निगेटिव विचार आता है !

उसके मन में विचार आया कि साधारण व्यक्ति मरेगा तो इतनी सारी चंदन की लकड़ी जलाने के लिए लेकर नहीं जायेगा ! कोई बड़ा व्यक्त्ति मरेगा तो उसको जलाने के लिए तो चंदन की ही लकड़ी लगायेंगे !

बड़ा व्यक्त्ति कौन है ?

राजा के सिवाय तो कोई और बड़ा व्यक्त्ति है नहीं ! राजा उसका दोस्त था, मित्र था फिर भी लोभ लालच जहाँ आयी वहाँ मित्र को भी नहीं देखते !

फिर उसके मन में विचार आया कि राजा की तो अभी उम्र ही नहीं है मरने की ! तो कैसे वह मरेगा ?

अगर कोई आस-पास के प्रदेश वाले चढ़ाई करें , तब तो राजा मर सकता है !

लेकिन फिर विचार आया कि आस-पास के सभी प्रदेश वालों के साथ राजा की अच्छी दोस्ती है !

तो कोई उसके ऊपर चढ़ाई करने वाला भी नहीं है ! विचार आया कि यदि कोई उसको खत्म कर दें , तब तो वो मर सकता है !

लेकिन खत्म कौन करेगा , सभी प्रजा उससे इतनी सन्तुष्ट है , इतनी खुश है कि कोई उसके खत्म क्यों करेगा ?

फिर उसके मन में विचार आया कि मैं ही उसको खत्म कर दूं ! तो उसको जलाने के लिए चंदन की लकड़ी यूज़ होंगी !

मैने यदि अगर राजमहल में कहीं उसको मारा तब तो मुझे पकड़ लेंगे और मुझे सजा हो जायेगी !

हाँ, जब मैं राजमहल में राजा के साथ जाता हूँ या कहीं बाहर भी जाता हूँ तो किसी को मेरे ऊपर शक होगा ही नहीं , क्योंकि सभी जानते हैं कि हमारी दोस्ती अच्छी है !

truegyantree woman-meditating-rock bhagwat geeta

विचार कीजिए,

व्यक्ति के विचार एक के बाद एक उसको कहाँ तक पहुंचा देते हैं ! लेकिन राजा को मारने की हिमम्त उसमें थी नहीं ! जब हिमम्त ही नहीं थी , तो वह क्या करेगा ?

विचार चलते रहे कि राजा मरे तो कैसे मरे ! राजा मरे तो कैसे मरे …….ताकि मेरे चंदन की लकड़ी खत्म हो जायें !

अब ये विचारों की तरंग, वहाँ राजा तक पहुंचती है ! वहाँ राजा सोचता है कि ये जो मेरा मित्र लकड़ी का व्यापारी है, इतना पैसे वाला है, लेकिन ये किसके लिए कमाता होगा ?

उसके आगे-पीछे कोई है तो नहीं , तो ये कमाई किसके लिए करता है ! तब राजा के मन में विचार आया कि ऐसा भाई जिसके आगे-पीछे कोई है ही नहीं वो अगर मर जाये तो उसकी प्रापर्टी राज्यकोष में आ जाये !

अब दोनों की इतनी गहरी दोस्ती , लेकिन अब दोनों जब एक-दूसरे के सामने आते हैं तो कौन सी भावना से आते हैं ! वो दोस्ती का भाव वो प्रेम का भाव समाप्त हो जाता है !

दोनों के मन में एक ही विचार आता है , वो सोचता है कि ये मरे तो कैसे मरे , और दूसरा सोचता है कि ये मरे तो कैसे मरे ?

वायब्रेशन में जैसी तरंगें हम छोड़ते है वैसी ही तरंगें हमारे पास आती हैं !

आखिर जब दोनों का मन बड़ा परेशान हो गया , तो रात-दिन दोनों को नींद नहीं आती है !

तब वो व्यापारी इतना परेशान होकर राजा के पास गया और राजा से हाथ जोड़कर के कहने लगा है राजा ! मैं माफी मांगने आया हूँ !

राजा ने कहा माफी किस बात की तुमने कौन सा गुनाह किया है ? व्यापारी ने कहा कि मैने कोई गुनाह किया नहीं है , लेकिन मेरे मन में एक कुविचार आ गया है !

जो निकलता ही नहीं है ! मैं इतना परेशान हो गया हूँ जो पता नहीं कि मैं क्या करूं ? रात-दिन भर मुझे नींद नहीं आती है ! उसने अपने मन के विचार राजा के सामने रखे !

राजा ने सोचा कि जब ये माफी माँग रहा है तो मुझे भी माँगनी चाहिए ! क्योंकि मेरे मन में भी कुविचार आया है, राजा ने भी उससे माफी माँगी !

दोनों एक-दूसरे से माफी माँगने के बाद इस सोच में बैठे कि ये चंदन की लकड़ीयां ने सारा खेल किया है ! जब तक ये चंदन की लकड़ीयां को खत्म नहीं करेंगे तब तक ये विचार पीछा नहीं छोड़ेगा नहीं !

तो क्या किया जाए ? चंदन की लकड़ी को कहीं अच्छे कार्य में लगायें ! तो राजा ने कहा कि मेरे महल में तो सब कुछ है , किसी चीज़ की आवश्यकता नहीं है !

लेकिन ऐसा करते हैं कि महल के बाहर जो बगीचा है वहाँ एक मन्दिर बनाते हैं ! उस मन्दिर में चंदन की लकड़ी की शानदार कुटिया बनाते हैं जिससे खुशबू फैलती रहेगी और जो भी वहाँ आयेगा भजन-कीर्तन करता रहेगा !

वातावरण कितना सुन्दर बन जायेगा ! खुशबू वाला वातावरण हो जायेगा ! शुभ विचार आया मन्दिर बनाने का और वहाँ सारे चंदन की लकड़ी लगाने का !

राजा ने राजकोष से पैसे निकालकर उसको देना चाहा कि इसी पैसे की लालच में तेरे मन में कुविचार शुरू हुआ था ना ! ये लो पैसा , तब वो व्यापारी कहता है , ये पैसा मुझे नहीं चाहिए !

ऐसा करो ये पैसा राजकोष में ही जमा रहे ! गरीबों के कल्याण के लिए उसको यूज़ किया जाए !

भावार्थ ये है कि

जब दोनों के मन में शुभ विचार आया तब दोनों का मन शान्त हुआ, परेशानी खत्म हुई और वे दोनों शान्ति से सो सके ! जीवन में जब भी हमारा मन परेशान हो उठता है या रात-दिन भर नींद नहीं आती है तो उसका कारण कहीं जड़ में कोई न कोई निगेटिव विचार पनप रहा होता है !

उसको उसी वक्त्त क्लीयर कर दो , उसको वृद्धि को प्राप्त होने नहीं दो , नहीं तो ये सारी आंतरिक ( Inner power ) को क्षीण कर देगा ! जीवन में इतनी परेशानी और टेंशन बढ़ा देगा कि जीवन जीना मुशिकल हो जायेगा ! 

इसलिए परमात्मा ने अर्जुन को कहा कि तुम अपने आप को भी आत्मा रूप में देखो ! अपने ध्यान को बाह्य सभी बातों से समेट लो ! नित्य शुभ भावनायें इस संसार की आत्माओं के प्रति भी प्रवाहित करो ! यही ध्यान का पहला कदम है !

0 0 votes
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments