E.11 महाभारत के समय ऐसी मनोदशा क्यों ?

E.11 "गीता-ज्ञान, एक मनोयुद्ध या हिंसक युद्ध"

279

गीता ज्ञान का आध्यात्मिक रहस्य (पहला और दूसरा अध्याय)

“गीता-ज्ञान, एक मनोयुद्ध या हिंसक युद्ध” 

The Great Geeta Episode No• 011

वास्तव में यह अर्जुन और भगवान के बीच का एक संवाद है !

  • जैसे हम सभी ने देखा कि हम सभी कौन हैं ? अर्जुन हैं ! जो अर्जन करने के भाव लिये हुए है !
  • यह हमारा और परमात्मा के साथ संवाद है कि कैसे हमने इस संसार को अत्यधिक दूषित और जटिल बना दिया है !

  • हम इसे रहने लायक एक बेहतर विश्व भी बना सकते हैं ! बशर्ते कि हर व्यक्ति अपने लिए यह निश्चित कर ले कि वह कहाँ जाना चाहता है ?
  • अपने लक्षित बिन्दु तक कैसे पहुंचना चाहता है ? इस तरह से पहले अध्याय में कुरूक्षेत्र के मैदान , युद्ध के मैदान का दृश्य है उसके मुख्य दो पात्र हैं भगवान और अर्जुन !
  • इनके साक्षी हैं युद्ध में भाग लेने वाले अक्षौणी सैनिक ! दौनों सेनाओं के योद्धा के नाम की घोषणा के पशचात् अर्जुन का ह्रदय निराशा में डूब जाता है !
  • सोचने की बात है कि अर्जुन जैसा एक महावीर जिसने अनेकों युद्ध अकेले ही कई बार जीते थे ! 
Arjun & shiva
Arjun & shiva
  • ऐसा भी नहीं है कि वह भीष्म पितामह , द्रोणाचार्य का पहली बार सामना करने जा रहा था , नहीं !
  • अज्ञातवास में भी जब उनकी भनक दुर्योधन को लगी थी !
  • उस समय वो पूरी सेना लेकर के युद्ध के लिए गया था !
  • तब अकेले अर्जुन ने भीष्म पितामह , द्रोणाचार्य तथा अन्य महारथियों का सामना किया था !
  • उस समय उसका ह्रदय विदीर्ण नहीं हुआ था , निराशा में नहीं डूबा था और आज महाभारत के समय ऐसी मनोदशा क्यों ? क्यों इतना निराशावादी होने लगा ! क्यों इतना निरूत्साही हो गया , क्या कहेंगे क्या उसको अपनी शक्त्ति पर भरोसा नहीं रहा या उसको भगवान के साथ पर संदेह होने लगा !
  • ये भी नहीं था कि उसे भगवान के साथ पर संदेह था ! ये भी नहीं था कि उसे अपनी शक्त्ति पर भरोसा नहीं था , फिर भी ऐसी मनोदशा थी , जो उसके हाथ-पैर काँपने लगे , उसका गाण्डीव हाथ से छूटने लगा ! वो बार-बार हाथ जोड़कर विनती करने लगा कि मुझे ये नहीं करना है उसका कारण क्या था ?
0 0 votes
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments